General

Top 20 ansh pandit shayari

Top 20 ansh pandit shayari
Written by legend.robert

ansh pandit shayari


हेल्लो दोस्तो कैसे हो आप सभी लोग उम्मीद करता हूं आप सभी लोग अच्छे से होंगे आज के इस आर्टिकल में हम आपके लिए लेकर आए है । ansh pandit shayari अगर आपने भी अंश पंडित की शायरी tiktok या इंस्टा रील पे शायरी देखी है । तो आप जानते ही होगे कि उनकी शायरी कितनी पॉपुलर होगी । आप इस आर्टिकल को लास्ट तक पड़े । और इंजॉय करे । इतियादी आप इस लेख को अपने दोस्तो के साथ जरूर शेयर करदे । और अगर आप इसी तरीके के डेली लेख पड़ना चाहते है तो आप हमारी वेबसाइट को फॉलो कर सकते हैं ।

 तारीफ़ कर देता हूं मैं बेईमानों के ईमान की🙏 

कुछ यही खूबी है मेरे जिंदगी के किरदार की

taareef kar deta hoon main beeemaanon ke eemaan kee🙏 

kuchh yahee khoobee hai mere jindagee ke kiradaar kee

हम मिडल क्लास फॅमिली वाले है 

हमारी ख्वाहिशों से ज्यादा.. समझौते होते है 

ham midal klaas phaimilee vaale hai

 hamaaree khvaahishon se jyaada.. samajhaute hote hai

वही करो जो आपको

 अच्छा लगे, जिंदगी आपकी है 

किसी के बाप की नहीं

vahee karo jo aapako achchha lage,

 jindagee aapakee hai kisee ke baap kee nahin

मुझे मशहूरी का शौक नहीं .. 

बस कुछ लोगों का गुरूर तोड़ना है

mujhe mashahooree ka shauk nahin .. 

bas kuchh logon ka guroor todana hai


ज़माने में आए हो तो जीने का हुनर भी रखना,

 दुश्मनों से खतरा नहीं बस अपनो पे नजर रखना!

zamaane mein aae ho to jeene ka hunar bhee rakhana, 

dushmanon se khatara nahin bas apano pe najar rakhana!

दोस्ती” को जोड़ने के लियें

ज़रूरत नहीं #धन दौलत की..

ये तो बस “निखर” जाती हैं

सिर्फ़ #वफ़ाओ की दौलत से..

dostee” ko jodane ke liyen zaroorat nahin #dhan daulat kee.. ye to bas “nikhar” jaatee hain sirf #vafao kee daulat se..

साँसों की “महक” हो या

चेहरे का नूर

#चाहत है तुमसे

इसमें मेरा_क्या कसूर

saanson kee “mahak” ho ya chehare ka noor #chaahat hai tumase isamen mera_kya kasoor

की तुमहम और तुम मेरे_साथ हो गए

 चलो आज

फिर से तू झूता “वादा” करते गये

kee tumaham aur tum mere_saath ho gae chalo aaj phir se too jhoota “vaada” karate gaye

चहरे पर “मोहब्बत” और,

दिल में #नफरत लिए बैठे है,

जो दोस्त बता रहे है “खुद” को मरे,

वही #आस्तीन में खंजर लिए बैठे है।

chahare par “mohabbat” aur,

 dil mein #napharat lie baithe hai,

 jo dost bata rahe hai “khud” ko mare,

 vahee #aasteen mein khanjar lie baithe hai.

मत पूछना कहानी भुला दूंगा मै,

मत पूछना कहानी भुला दूंगा मै… 

कितना हॅसता खेलता चेहरा है आपका

ख़ामख़ा रुला दूंगा मै। 

mat poochhana kahaanee bhula doonga mai, 

mat poochhana kahaanee bhula doonga mai…

 kitana haisata khelata chehara hai aapaka

 khaamakha rula doonga mai.


ये मोहब्बत के हादसे अक्सर

 दिल को तोड़ देते है… 

तुम मंजिल की बात करते हो 

लोग अक्सर रास्तों में साथ छोड़ देते है। 

ye mohabbat ke haadase aksar

 dil ko tod dete hai… 

tum manjil kee baat karate ho

 log aksar raaston mein saath chhod dete hai.

बहोत गजब सा नजारा है 

इस अजीब सी दुनियां का

लोग बहोत कुछ बटोरने में लगे है 

खाई हाथ जाने के लिए।

bahot gajab sa najaara hai 

is ajeeb see duniyaan ka 

log bahot kuchh batorane mein lage hai

 khaee haath jaane ke lie.

चहरे पर मोहब्बत और

दिल में नफरत लिए बैठे है

जो दोस्त बता रहे है खुद को मरे 

वही आस्तीन में खंजर लिए बैठे है। 

chahare par mohabbat aur 

dil mein napharat lie baithe hai 

jo dost bata rahe hai khud ko mare

 vahee aasteen mein khanjar lie baithe hai.

उसके ख्यालो के सिवा 

और हम कही शामिल न थे 

जान छिड़ते थे  जिसपर वो 

ही मेरे  मोहब्बत के काबिल न थे। 

usake khyaalo ke siva 

aur ham kahee shaamil na the  

jaan chhidate the jisapar vo 

hee mere mohabbat ke kaabil na the.

इस “मोहब्बत” की बारिश में अब भीगना नहीं है …

हाँ इश्क है तुमसे मगर अब_कहना नहीं है।

हजारों महफिले है, लाखों मेले है 

पर जहाँ तुम नहीं वहां मेरा दिल  भी अकेले है। 

Hajaaron mahaphile hai, laakhon mele hai 

Par jahaan tum nahi vahan mera dil bhi akela hai. 

की वो हमें चाहे न चाहे ये बात है,

मगर हम भी कोशिस न करे 

यार ये गलत बात है।

kee vo hamen chaahe na chaahe ye baat hai, 

magar ham bhee koshis na kare

 yaar ye galat baat hai.

जाते ही शमसान में मिट गयी सब लकीर

पास पास ही जल रहे थे राजा और फ़क़ीर।

jaate hee shamasaan mein mit gayee sab lakeer…

 paas paas hee jal rahe the raaja aur faqeer.

About the author

legend.robert

Leave a Comment