General

100+ Baat Nahi Karne Ki Shayari [ LATEST UPDATE ]

100+ Baat Nahi Karne Ki Shayari [ LATEST UPDATE ]
Written by legend.robert

baat nahi karne ki shayari

आप अपनी ज़िन्दगी में किसी को खास समझते है और वह आप से बात नहीं कर रहा है और आप दुखी फील कर रहे है । आप अपनी फीलिंग के हिसाब से कुछ शायरी पड़ना चाहते है । तो ये आर्टिकल आप सभी के लिए होने बाला है । आप इस आर्टिकल को लास्ट तक जरूर पड़े और अगर आप का दिल करे तो इसे अपने दोस्तो में भी शेयर करदे 



तेरे शहर की हर गली वाकिफ थी मुझसे ,

ना जाने क्यूं आज तेरा मौहल्ला मुझसे रूठा हुआ सा है। 

tere shahar kee har galee vaakiph thee mujhase ,

 na jaane kyoon aaj tera mauhalla mujhase rootha hua sa hai.

मुझे एक ऐसा ताबीज चाहिये,

जो मुझे उससे मिला दे या फिर भुला दे

मेरी पलकों की नमी इस बात की गवाह है,

मुझे आज भी तुमसे मोहब्बत बेपनाह है.

आप हम से बात नहीं करते,

और हम आप के बिना,

कोई ख्वाब नहीं देखा करते।

मंजिल पाना तो बहुत दूर की बात है,

गुरूर में रहोगे तो रास्ते भी न देख पाओगे.

जिनके बिना एक पल भी नहीं गुजरता,

देखो उसके बिना कल दिवाली बीत गई


जिस दिन तेरी मेरी बात नहीं होती

दिन नहीं गुज़रता और रात नहीं होती !!

रूठ जाएंगे अगर तुझसे  तो बात किससे करेंगे हम 

दर्द-ए-दिल का हाल किससे बाटेंगे  

 हम अकेले घुट कर मर जाएंगे हम

rooth jaenge agar tujhase to baat kisase karenge ham 

dard-e-dil ka haal kisase baatenge 

ham akele ghut kar mar jaenge ham

तुमसे ही रूठ कर, तुमको ही याद करते है

हमे तो ठीक से नाराज़ भी नही होने आता…

tumse hee rooth kar, tumako hee yaad karate hai 

hame to theek se naaraaz bhee nahee hone aata…


जरूरी है रूठना और मनाना मोहब्बत में, 

कहते हैं इश्क़ जवां इन्ही अदाओं से रहता है

jarooree hai roothana aur manaana mohabbat mein,

kahate hain ishq javaan inhee adaon se rahata hai

तुम “बात” ना करो, कोई बात नहीं

लेकिन यह जान लो

बात करने की #शुरुआत वही करेगा

जो बेपनाह “मोहब्बत” करता हो

tum “baat” na karo, koee baat nahin lekin yah jaan lo

 baat karane kee #shuruaat vahee karega jo bepanaah “mohabbat” karata ho

किस “बात” पर मिजाज बदला_बदला सा है,

शिकायत है हमसे या ये “असर” किसी और का है.

kis “baat” par mijaaj badala_badala sa hai, 

shikaayat hai hamase ya ye “asar” kisee aur ka hai.

इक “बात” हमेशा याद रखना,

 तुम्हारे ‘जीतने’ सौख है, उतनी तो मेरी #आदतें है . 

ik “baat” hamesha yaad rakhana,

 tumhaare jeetane saukh hai, utanee to meree #aadaten hai .

बिन “बात” के ही रूठने की आदत है,

किसी अपने का साथ पाने की #चाहत है,

आप खुश रहें, मेरा क्या है..

मैं तो #आइना हूँ, मुझे तो “टूटने” की आदत है।

bin “baat” ke hee roothane kee aadat hai, 

kisee apane ka saath paane kee #chaahat hai, 

aap khush rahen, mera kya hai.. main to #aaina hoon,

 mujhe to “tootane” kee aadat hai.


उसकी ये मासूम अदा मुझको बहुत लुभाती है

जब भी’होती है, नाराज पलट कर बैठ जाती है

usakee ye maasoom ada mujhako bahut lubhaatee hai 

jab bheehotee hai, naaraaj palat kar baith jaatee hai

सारा जहाँ “चुपचाप” है, आहटें ना #साज़ है,

क्यों हवा ठहरी हुई है, आप क्या ‘नाराज़’ है !!

saara jahaan “chupachaap” hai, aahaten na #saaz hai, 

kyon hava thaharee huee hai, aap kya naaraaz hai !!

About the author

legend.robert

Leave a Comment