General

best hindi poem | जिंदगी पर कविताएँ

best hindi poem | जिंदगी पर कविताएँ
Written by legend.robert

best hindi poem | जिंदगी पर कविताएँ

 हेलो दोस्तो कैसे है आप सभी लोग उम्मीद करता हूं आप सभी लोग ठीक होंगे आज के इस आर्टिकल में हम आपके लिए लेकर आए है best hindi poem | जिंदगी पर कविताएँ जो कि बहुत ही शानदार होने वाली है तो आप इस आर्टिकल को एक बार जरूर पूरा पड़े

 एक से एक दुर्घटना हो जाती है – हिंदी कविता

 एक से एक दुर्घटना हो जाती है जमाने में
किसी शेर सा कलेजा चाहिए उन्हे सुनने सुनाने मे
आसान नही हर एक को खुश रख पाना जिंदगी में
कई बार रूह से रूह बदलनी पड़ती है रिश्ते निभाने में

एक दिन एक आदमी अपना सपना करना चाहता था साकार
अपनी इच्छा पूरी करने वो लेकर आया घर में कार
जो कई कई दिन यूं ही खड़ी रहती थी घर में बेकार
क्योंकि साहब तो बाहर रहते थे ओर हफ्ते में एक ही दिन आता है रविवार

चंद मीलो ही बस चल पायी थी
पैट्रोल कम लगा था, उससे मंहगी उसकी सफाई थी
वक्त कम होने की वजह से
साहब ने बस दो महीने में सिर्फ चालीस किलोमीटर घुमाई थी

घर में एक बीवी एक बच्चा था
छोटी उमर का था समझ का थोड़ा कच्चा था
पढ़ने लिखने मे भी था बहुत होशियार
मम्मी पापा को बहुत चाहता था, दिल का बिल्कुल सच्चा था

नादानी की उमर थी एक दिन कार में मार दी उसने चंद खरोंचे
उसके बाप ने देख लिया, बहुत गुस्सा हुआ बदल गई उसकी सोंचे
आव देखा ना ताव, गुस्सा सिर चढ़ कर बोल रहा था
बेरहम बाप किसी, हथौड़े से अब तो बच्चे के ही हाथ और पैर खोल रहा था

एक पर एक बच्चे के कोमल हांथो पर उसने किये कई वार
कंडम हाथ कर दिए, ये निकला उस मारपीट का सार
गुस्सा खत्म होते ही उसको हुई बच्चे की सोच
बुरी तरह रो रहा था मासूम,
असहनीय दर्द के कारण बेचारे की चीख रही थी चोंच

जख्मी हालात मे बाप बेटे को लेकर हस्पताल भागा
तब तक बेहोश हो चुका था मासूम बेकसूर बच्चा अभागा
होश आते ही उसने सबसे पहले अपने पिता को देखा
एक प्रश्न किया,क्यूँ आपने मुझ पर अपना हथौड़ा था दागा

चाह कर भी अपने हाथो को हिला ना पाता था
तीनो वक्त की रोटी किसी दूसरे के हाथो से खाता था
और आज भी उस बेरहम पिता के बिना उसका मन नही लगता था
क्योंकि वह तो सबसे ज्यादा उसी को चाहता था

सारे,कामो से निबट कर बाप ने एक दिन कार की उस जगह को देखा
जहां कभी उस मासूम ने बनाई थी कुछ रेखा
अचरित होकर खून के आंसू रोने लगा
खड़े खड़े ही अपना असितत्व खोने लगा

पढ़कर उन चंद खरोंचों को वह अपनी कार भूल गया
एक एक अक्षर उस पर ऐसा लिखा था,
जैसे भीतर आत्मा तक कोई शूल गया
समझ गया सारी बात के उस दिन गुस्से के
आगे सारे जज्बात हारे है
क्योंकि कार पर लिखा था,
मेरे पापा इस दुनिया मे सबसे प्यारे है 

 

 

 ek se ek durghatana ho jaatee hai jamaane mein
kisee sher sa kaleja chaahie unhe sunane sunaane me
aasaan nahee har ek ko khush rakh paana jindagee mein
kaee baar rooh se rooh badalanee padatee hai rishte nibhaane mein
ek din ek aadamee apana sapana karana chaahata tha saakaar
apanee ichchha pooree karane vo lekar aaya ghar mein kaar
jo kaee kaee din yoon hee khadee rahatee thee ghar mein bekaar
kyonki saahab to baahar rahate the or haphte mein ek hee din aata hai ravivaar
chand meelo hee bas chal paayee thee
paitrol kam laga tha, usase manhagee usakee saphaee thee
vakt kam hone kee vajah se
saahab ne bas do maheene mein sirph chaalees kilomeetar ghumaee thee
ghar mein ek beevee ek bachcha tha
chhotee umar ka tha samajh ka thoda kachcha tha
padhane likhane me bhee tha bahut hoshiyaar
mammee paapa ko bahut chaahata tha, dil ka bilkul sachcha tha
naadaanee kee umar thee ek din kaar mein maar dee usane chand kharonche
usake baap ne dekh liya, bahut gussa hua badal gaee usakee sonche
aav dekha na taav, gussa sir chadh kar bol raha tha
beraham baap kisee, hathaude se ab to bachche ke hee haath aur pair khol raha tha
ek par ek bachche ke komal haantho par usane kiye kaee vaar
kandam haath kar die, ye nikala us maarapeet ka saar
gussa khatm hote hee usako huee bachche kee soch
buree tarah ro raha tha maasoom,
asahaneey dard ke kaaran bechaare kee cheekh rahee thee chonch
jakhmee haalaat me baap bete ko lekar haspataal bhaaga
tab tak behosh ho chuka tha maasoom bekasoor bachcha abhaaga
hosh aate hee usane sabase pahale apane pita ko dekha
ek prashn kiya,kyoon aapane mujh par apana hathauda tha daaga
chaah kar bhee apane haatho ko hila na paata tha
teeno vakt kee rotee kisee doosare ke haatho se khaata tha
aur aaj bhee us beraham pita ke bina usaka man nahee lagata tha
kyonki vah to sabase jyaada usee ko chaahata tha
saare,kaamo se nibat kar baap ne ek din kaar kee us jagah ko dekha
jahaan kabhee us maasoom ne banaee thee kuchh rekha
acharit hokar khoon ke aansoo rone laga
khade khade hee apana asitatv khone laga
padhakar un chand kharonchon ko vah apanee kaar bhool gaya
ek ek akshar us par aisa likha tha,
jaise bheetar aatma tak koee shool gaya
samajh gaya saaree baat ke us din gusse ke
aage saare jajbaat haare hai
kyonki kaar par likha tha,
mere paapa is duniya me sabase pyaare hai

 

हो रही दिल में, वो हलचल कही मैंने – हिंदी कविता

हो रही दिल में, वो हलचल कही मैंने
जमाने ने ये समझा, कोई गजल कही मैंने
वो समझ कर आज मुस्करा रहा है उसको
कोई बात गहरी, उसको कल कही मैंने

दिल की जमीन पर बोना देशभक्ति के बीज
हर नौजवान को सबसे अच्छी फसल कही मैंने
शरमा गई हजारों परियां, खूबसूरत जन्न्त की
जब निगाहें यार की, अदभुत कंवल कही मैंने

अंगारों भरी नजर से देखा नौजवान ने मुझको
देखकर गली तवायफ की, जब उसे चल चल कही मैंने
बज उठी महफ़िल में गूंज तालियों की हर ओर
माँ की सख्त हथेलियां भी, जब मलमल कही मैंने

चुराने लगी है बिटिया,जबसे नजर मुझसे बार बार
ना जाने कितनी दफा खुद को, सम्भल कही मैंने
खुश होकर बैठा लिया, किस्मत ने मुझे अपने कंधों पर
बाप के पसीने की महक, जब खुशबु-ए-सन्दल कही मैंने

कई रोकर मुस्कुराए, कई मुस्कुरा कर रो दिये
जब महफ़िल में, दिल में हो रही उथल-पुथल कही मैंने
तुमसे बेहतर किसी ने लिखा नही ‘नीरज’, महफ़िल ने कहा
जब मां की मुस्कान नक्काशी-ए-ताजमहल कही मैंने

ho rahee dil mein, vo halachal kahee mainne
jamaane ne ye samajha, koee gajal kahee mainne
vo samajh kar aaj muskara raha hai usako
koee baat gaharee, usako kal kahee mainne
dil kee jameen par bona deshabhakti ke beej
har naujavaan ko sabase achchhee phasal kahee mainne
sharama gaee hajaaron pariyaan, khoobasoorat jannt kee
jab nigaahen yaar kee, adabhut kanval kahee mainne
angaaron bharee najar se dekha naujavaan ne mujhako
dekhakar galee tavaayaph kee, jab use chal chal kahee mainne
baj uthee mahafil mein goonj taaliyon kee har or
maan kee sakht hatheliyaan bhee, jab malamal kahee mainne
churaane lagee hai bitiya,jabase najar mujhase baar baar
na jaane kitanee dapha khud ko, sambhal kahee mainne
khush hokar baitha liya, kismat ne mujhe apane kandhon par
baap ke paseene kee mahak, jab khushabu-e-sandal kahee mainne
kaee rokar muskurae, kaee muskura kar ro diye
jab mahafil mein, dil mein ho rahee uthal-puthal kahee mainne
tumase behatar kisee ne likha nahee neeraj, mahafil ne kaha
jab maan kee muskaan nakkaashee-e-taajamahal kahee mainne

जन्नत का जमीन पर ही निर्माण कर लिया – हिंदी कविता

जन्नत का जमीन पर ही निर्माण कर लिया

जिस जिस ने भी खुद को इंसान कर लिया

उठाकर किसी गरीब लाचार को जमीन से

खुद को जमीन से ऊँचा आसमान कर लिया


अ मानव तुझे तो बनाकर भेजा था भगवान जमीन का

क्यूं तूने खुद को शैतान सा बेईमान कर लिया


कोसते रहते हैं लोग हर वक्त दूसरों की शौहरतों को

अच्छे भले जन्नत से जिस्म को शमशान कर लिया


पाल लिया समझो उसने एक नर्क अपने भीतर

जिस जिस ने भी अपनी कामयाबियों पर गुमान कर लिया


करके हर अपने पराये की दिल से मदद

मुश्किल जीवन को हमने बड़ा आसान कर लिया


जब भी करना चाहा बेदर्द तकदीर ने हम पर वार

हमने किसी मासूम बालक सा खुद को नादान कर लिया


हटाता गया मालिक उसकी राह से हर कांटे को

जिस जिस ने खुद को उसकी खातिर परेशान कर लिया


करके किसी संगदिल सनम से इश्क का इजहार

हमने ठीक ठाक चलती सांसो को तूफान कर लिया


नही बैठती सरस्वती माँ फिर कभी उसकी जिव्हा पर

जिस जिस ने अ नीरज लिखने पर अभिमान कर लिया

 

 

jannat ka jameen par hee nirmaan kar liya
jis jis ne bhee khud ko insaan kar liya
uthaakar kisee gareeb laachaar ko jameen se
khud ko jameen se ooncha aasamaan kar liya
a maanav tujhe to banaakar bheja tha bhagavaan jameen ka
kyoon toone khud ko shaitaan sa beeemaan kar liya
kosate rahate hain log har vakt doosaron kee shauharaton ko
achchhe bhale jannat se jism ko shamashaan kar liya
paal liya samajho usane ek nark apane bheetar
jis jis ne bhee apanee kaamayaabiyon par gumaan kar liya
karake har apane paraaye kee dil se madad
mushkil jeevan ko hamane bada aasaan kar liya
jab bhee karana chaaha bedard takadeer ne ham par vaar
hamane kisee maasoom baalak sa khud ko naadaan kar liya
hataata gaya maalik usakee raah se har kaante ko
jis jis ne khud ko usakee khaatir pareshaan kar liya
karake kisee sangadil sanam se ishk ka ijahaar
hamane theek thaak chalatee saanso ko toophaan kar liya
nahee baithatee sarasvatee maan phir kabhee usakee jivha par
jis jis ne a neeraj likhane par abhimaan kar liya

 

 

परवाह नही चाहे कहता रहे कोई भी हमे पागल दीवाना – हिंदी कविता

 

परवाह नही चाहे कहता रहे कोई भी हमे पागल दीवाना

हम क्यूँ बतायें किसी को के हम जानते है गमों में भी मुस्काना

जान तक अपनी लुटानी पडती है इश्क में

ऐसे ही नही लिखा जाता मोहब्बत का अफसाना


किसी लाश के पास खड़ी होती है साँस लेती लाशें

मुर्दा कौन है,समझ जाओ तो मुझे भी समझाना


टाल मटोल चल जाती है अपने जरूरी कामों में

पर मौत सुनती नही किसी का कोई भी बहाना


नूर ना हो जाये एक एक बूंद अश्क की तो कहना

कभी माँ बाप की खातिर चंद आंसू तो बरसाना


जब किस्मत साथ नही देती दिल से आदमी का

तो मुश्किल हो जाता है दो वक्त की रोटी भी कमाना


जिन्दगी में बहुत ज्यादा जरूरी है ये सीखना

क्या क्या राज है हमें,अपनी रूह में छुपाना


कितने हम गलत है ओर कितने है हम सही

सुन लेना कभी चुपके से,बातें करता है खुलेआम ये जमाना


हर गलती माफ़ कर देता है ऊपरवाला दयालु भगवान

पर गलती से भी कभी ना तुम किसी गरीब को रुलाना


गये वक्त नही है हम जो लौट कर ना आ सकें

वक्ते-जरूरत अ दोस्त कभी तुम नीरज को आजमाना

 

 

paravaah nahee chaahe kahata rahe koee bhee hame paagal deevaana
ham kyoon bataayen kisee ko ke ham jaanate hai gamon mein bhee muskaana
jaan tak apanee lutaanee padatee hai ishk mein
aise hee nahee likha jaata mohabbat ka aphasaana
kisee laash ke paas khadee hotee hai saans letee laashen
murda kaun hai,samajh jao to mujhe bhee samajhaana
taal matol chal jaatee hai apane jarooree kaamon mein
par maut sunatee nahee kisee ka koee bhee bahaana
noor na ho jaaye ek ek boond ashk kee to kahana
kabhee maan baap kee khaatir chand aansoo to barasaana
jab kismat saath nahee detee dil se aadamee ka
to mushkil ho jaata hai do vakt kee rotee bhee kamaana
jindagee mein bahut jyaada jarooree hai ye seekhana
kya kya raaj hai hamen,apanee rooh mein chhupaana
kitane ham galat hai or kitane hai ham sahee
sun lena kabhee chupake se,baaten karata hai khuleaam ye jamaana
har galatee maaf kar deta hai ooparavaala dayaalu bhagavaan
par galatee se bhee kabhee na tum kisee gareeb ko rulaana
gaye vakt nahee hai ham jo laut kar na aa saken
vakte-jaroorat a dost kabhee tum neeraj ko aajamaana

 

 

 

कहां गिरे कैसे गिरे,ये रूह जख्मी हुई कब – हिंदी कविता

 

 

कहां गिरे कैसे गिरे,ये रूह जख्मी हुई कब

मत पूछो अ यारों तुम मेरे रोने का सबब

करते नही बड़ों को झुक कर सलाम अब तो

भूल गया नया दौर वो पुराने सलीके के अदब


मत ले जालिम तू अपने घर जाने का नाम

इधर तू उठेगी उधर हो जायेगा बड़ा गजब


नजर आता है हर और सिर्फ वतन ही वतन

मैं तिरंगे को दिल की नजरों से देखता हूं जब


खुदा का नम्बर भी आता है बाद इनके लबों पर

माँ बाप से तो बहुत ज्यादा छोटा होता है रब


हर रूह को रहती है एक अजीब सी बैचनी हर वक्त

शायद कोई तबाही का सामान ढूंढ रह हैं हम सब


माँ कभी बेवकूफ नही होती,समझो अ नादानों

सारी बातें तब समझती थी जब खुलते नही थे लब


जो कर रहा था कुछ देर पहले तक सलीके से बातें

देखते ही किसी फकीर को बेवकूफ हो गया बेअदब


कभी ना लबों पर काम की खातिर कल आना चाहिये

हमेशा यही प्रयास रहे,के हाँ आज ही,करता हूँ अब


कृपा रहती है हमेशा माँ शारदे की मुर्ख नीरज पर

भर दिया है उसने मेरी रूह को नये ख्यालों से लबालब

 

kahaan gire kaise gire,ye rooh jakhmee huee kab
mat poochho a yaaron tum mere rone ka sabab
karate nahee badon ko jhuk kar salaam ab to
bhool gaya naya daur vo puraane saleeke ke adab
mat le jaalim too apane ghar jaane ka naam
idhar too uthegee udhar ho jaayega bada gajab
najar aata hai har aur sirph vatan hee vatan
main tirange ko dil kee najaron se dekhata hoon jab
khuda ka nambar bhee aata hai baad inake labon par
maan baap se to bahut jyaada chhota hota hai rab
har rooh ko rahatee hai ek ajeeb see baichanee har vakt
shaayad koee tabaahee ka saamaan dhoondh rah hain ham sab
maan kabhee bevakooph nahee hotee,samajho a naadaanon
saaree baaten tab samajhatee thee jab khulate nahee the lab
jo kar raha tha kuchh der pahale tak saleeke se baaten
dekhate hee kisee phakeer ko bevakooph ho gaya beadab
kabhee na labon par kaam kee khaatir kal aana chaahiye
hamesha yahee prayaas rahe,ke haan aaj hee,karata hoon ab
krpa rahatee hai hamesha maan shaarade kee murkh neeraj par
bhar diya hai usane meree rooh ko naye khyaalon se labaalab

 

 

भागदौड भरी जिंदगी में – हिंदी कविता

 

 

भागदौड भरी जिंदगी में

मर गए लोगाें के सारे अहसास

नजदीक के रिश्ते दूर हो गए

दूर के रिश्ते हो गए पास

नफरत सिर चढ बोल रही

अपनों से डरती है अपनाें की सांस

कल तक जो होते थे गैर

वो ही हो गए अब तो खास

कमाकर खूब पैसा देख लिया

रूह तो रहती फिर भी उदास

असुरक्षित खुद को महसूस करता, अपनाें से

सच्चे साथियों की करे बाजार में तलाश


जोडकर सारे साधन ऐशो आराम के

भटकता फिर रहा इधर उधर, होकर हताश

सच्चा मजा तुझे मिलेगा तेरे खुद के घर में

तूने सच्ची नजर से देखा होता काश


फिर कहते हो अपने आपसे

क्यूं ये जिंदगी मुझको ना आती रास

अपनो की जान का, अपना ही दुश्मन

ये कैसी निराली है आजकल की प्यास


देकर गंदी गाली माँ बाप को

बाहर जाकर खेले ताश

नाराज करके भगवान को अपने

तूने खुद ब खुद खोजा अपना नाश


अपने घर का तू हो ना पाया

सुसरालियाें का रहता बनकर दास

माँ की तुलना मतकर जमीं पर कहीं

माँ बन नहीं सकती कभी भी सास


अपने अपना समझ, अगर गलत कुछ बोले

उनकी कड़वी बातों में ढूंढो मिठास

आकर बातों में दूजे की

क्यूं कर रहे खुद अपना विनाश


छोडकर जिद अपनी ज़रा

एक दूजे पर, दिल से करो विश्वास

अपने अहंकार को बिठाकर सिर पर

मत बन बैठो, चलती फिरती जिंदा लाश

 

 

bhaagadaud bharee jindagee mein
mar gae logaaen ke saare ahasaas
najadeek ke rishte door ho gae
door ke rishte ho gae paas
napharat sir chadh bol rahee
apanon se daratee hai apanaaen kee saans
kal tak jo hote the gair
vo hee ho gae ab to khaas
kamaakar khoob paisa dekh liya
rooh to rahatee phir bhee udaas
asurakshit khud ko mahasoos karata, apanaaen se
sachche saathiyon kee kare baajaar mein talaash
jodakar saare saadhan aisho aaraam ke
bhatakata phir raha idhar udhar, hokar hataash
sachcha maja tujhe milega tere khud ke ghar mein
toone sachchee najar se dekha hota kaash
phir kahate ho apane aapase
kyoon ye jindagee mujhako na aatee raas
apano kee jaan ka, apana hee dushman
ye kaisee niraalee hai aajakal kee pyaas
dekar gandee gaalee maan baap ko
baahar jaakar khele taash
naaraaj karake bhagavaan ko apane
toone khud ba khud khoja apana naash
apane ghar ka too ho na paaya
susaraaliyaaen ka rahata banakar daas
maan kee tulana matakar jameen par kaheen
maan ban nahin sakatee kabhee bhee saas
apane apana samajh, agar galat kuchh bole
unakee kadavee baaton mein dhoondho mithaas
aakar baaton mein dooje kee
kyoon kar rahe khud apana vinaash
chhodakar jid apanee zara
ek dooje par, dil se karo vishvaas
apane ahankaar ko bithaakar sir par
mat ban baitho, chalatee phiratee jinda laash

होकर परेशान जिंदगी से – हिंदी कविता

 

होकर परेशान जिंदगी से

हमने लिखा परमात्मा को एक खत है

बुला ले अपने पास मुझे

यहां जमीं पर ठीक नही मेरी हालत है

जिस घर में हूं रहता

नींव कमजोर,नाजुक उसकी छत्त है

जिस घर का हूं मैं मालिक

वहां कुत्तों सी मेरी कीमत है

रक्खा भी मुझको इसलिये घर में

क्योंकि मेरे पास एक मत है

और कैसे ब्यान करूं अपने दिल का दर्द

मेरे अपने ही लोग करते मुझ पर हुकुमत है

घर जो है वो है देश मेरा

यहां जन्म हुआ था,ये मेरी किस्मत है

हर उत्सव, हर त्यौहार, हर जश्न

यहां जिंदगी मेरी ही बदौलत है

हर तरह से निभा रहा फर्ज अपना

फिर भी ना जाने क्यूं आई मेरी शामत है

मेरा सहयोग हर एक बात में जरूरी

मैंने भी दिया हमेशा अपना शत प्रतिशत है

पर कोई समझ सके,मेरे दिल की बात

यहां किसके पास इतना वक्त है

भारतवासी होना ही अब तो

मुझको तो लगता एक लानत है


नोंच कर मांस, मेरा खुन पी रहे

गिद्धो की कैसी ये दावत है

चीख रहे चिल्ला रहे, खुन मेरा पीते-पीते

छोडना नही कुछ भी, मना करना इसकी तो आदत है

हम मर जाएंगे अगर रक्त ना पिया इसका

नस-नस में जो बहती, लगी उनको तो वो लत है

मेरे सारे संसाधनो पर कर कब्जा

सारी छीनी मेरी दौलत है

अगर करता अपने हक की बात

तो कहते, ये क्या गले पडी आफत है

पहचानते नही मुझको कभी

अब तो अपने मानव होने पर ही मुझको धत्त है


कुछ कर पाता नही

सिर्फ सोचना ही,मेरी फितरत है

तकलीफ देती जो बार-बार मुझको

ना जाने वही होती क्यूं हरकत है

आकर भगवन, तू ही संभाल, मेरे देश को

बर्बाद हो रही, मेरी सारी मेहनत है

वरना होकर रहेगा राम नाप सत्य देश का

अब मुझसे तो देखी जाती नही इसकी गत्त है

विकास के काम कम हो रहे

विनाश के सारे रास्ते प्रशस्त है

खुशहाल जिसका नागरिक नही

एक दिन जरूर होना उसका सुर्य अस्त है

 

hokar pareshaan jindagee se
hamane likha paramaatma ko ek khat hai
bula le apane paas mujhe
yahaan jameen par theek nahee meree haalat hai
jis ghar mein hoon rahata
neenv kamajor,naajuk usakee chhatt hai
jis ghar ka hoon main maalik
vahaan kutton see meree keemat hai
rakkha bhee mujhako isaliye ghar mein
kyonki mere paas ek mat hai
aur kaise byaan karoon apane dil ka dard
mere apane hee log karate mujh par hukumat hai
ghar jo hai vo hai desh mera
yahaan janm hua tha,ye meree kismat hai
har utsav, har tyauhaar, har jashn
yahaan jindagee meree hee badaulat hai
har tarah se nibha raha pharj apana
phir bhee na jaane kyoon aaee meree shaamat hai
mera sahayog har ek baat mein jarooree
mainne bhee diya hamesha apana shat pratishat hai
par koee samajh sake,mere dil kee baat
yahaan kisake paas itana vakt hai
bhaaratavaasee hona hee ab to
mujhako to lagata ek laanat hai
nonch kar maans, mera khun pee rahe
giddho kee kaisee ye daavat hai
cheekh rahe chilla rahe, khun mera peete-peete
chhodana nahee kuchh bhee, mana karana isakee to aadat hai
ham mar jaenge agar rakt na piya isaka
nas-nas mein jo bahatee, lagee unako to vo lat hai
mere saare sansaadhano par kar kabja
saaree chheenee meree daulat hai
agar karata apane hak kee baat
to kahate, ye kya gale padee aaphat hai
pahachaanate nahee mujhako kabhee
ab to apane maanav hone par hee mujhako dhatt hai
kuchh kar paata nahee
sirph sochana hee,meree phitarat hai
takaleeph detee jo baar-baar mujhako
na jaane vahee hotee kyoon harakat hai
aakar bhagavan, too hee sambhaal, mere desh ko
barbaad ho rahee, meree saaree mehanat hai
varana hokar rahega raam naap saty desh ka
ab mujhase to dekhee jaatee nahee isakee gatt hai
vikaas ke kaam kam ho rahe
vinaash ke saare raaste prashast hai
khushahaal jisaka naagarik nahee
ek din jaroor hona usaka sury ast hai

अजीब दास्तान है इस जिन्दगी की – हिंदी कविता

 

अजीब दास्तान है इस जिन्दगी की

ना जाने कितने मौको पर तकदीर बेवजह रूलाती है

जिसकी कभी कल्पना भी ना की हो जीवन में

ऐसे ऐसे अनोखे मंजर भी दिखाती है

जो कल तक हंसती थी जोर जोर से सांसे

वही आज सामने देखकर दुखो को कराहती है

जिसने कभी भी गलत ना किया किसी के भी साथ

उसके आंगन में भी आफतो की बारिश आ जाती है


जिन्दगी अजीब चीज है करके परेशान किसी को बेवजह

फिर दूर खड़ी खड़ी मुस्काती है

लूट कर किसी बेकसूर का सब कुछ

कभी भी ना अपने कामों पर पछताती है


सोचता रहता इंसान मजबूर होकर

क्या जिन्दगी सबसे साथ यूं ही निभाती है

देकर सबको थोड़ा या ज्यादा कष्ट

सबको जिन्दगी का असली मतलब समझाती है


रोना पड़ता है हंसते खेलते इंसानो को भी

जब जिन्दगी गमों की दुनियां से परदा हटाती है

दुख सुख मिलकर ही करते एक अदद जीवन का निर्माण

शायद ऐसा करके हर माहौल में जीना सिखाती है


जो सह जाता हर गम को हंसकर

फिर उसके जीवन में सदा बहारे ही बहारे आती हैं

छू भी ना पाता कोई गम उसके दामन को

फिर तो जिन्दगी इंसान को इतना ऊपर उठाती है

  

ajeeb daastaan hai is jindagee kee
na jaane kitane mauko par takadeer bevajah roolaatee hai
jisakee kabhee kalpana bhee na kee ho jeevan mein
aise aise anokhe manjar bhee dikhaatee hai
jo kal tak hansatee thee jor jor se saanse
vahee aaj saamane dekhakar dukho ko karaahatee hai
jisane kabhee bhee galat na kiya kisee ke bhee saath
usake aangan mein bhee aaphato kee baarish aa jaatee hai
jindagee ajeeb cheej hai karake pareshaan kisee ko bevajah
phir door khadee khadee muskaatee hai
loot kar kisee bekasoor ka sab kuchh
kabhee bhee na apane kaamon par pachhataatee hai
sochata rahata insaan majaboor hokar
kya jindagee sabase saath yoon hee nibhaatee hai
dekar sabako thoda ya jyaada kasht
sabako jindagee ka asalee matalab samajhaatee hai
rona padata hai hansate khelate insaano ko bhee
jab jindagee gamon kee duniyaan se parada hataatee hai
dukh sukh milakar hee karate ek adad jeevan ka nirmaan
shaayad aisa karake har maahaul mein jeena sikhaatee hai
jo sah jaata har gam ko hansakar
phir usake jeevan mein sada bahaare hee bahaare aatee hain
chhoo bhee na paata koe

सुख-दुख, खुशी-गम नाम की उफनती दरिया को फांद कर – हिंदी कविता

सुख-दुख, खुशी-गम नाम की उफनती दरिया को फांद कर

जिंदगी के उस पार उतरना पड़ेगा

हंसकर करो चाहे, रोक कर करो

ये सफर तो पार करना पड़ेगा ||

नही छोड़ना है हौसलां देखकर मुसिबतों को सामने

कुछ देर ही सही पर आगे तो अड़ना पड़ेगा

वरना खा जाएगी मौत, जिंदगी को पल भर में

बहुत तड़फ तड़फ कर, ना चाहते हुए भी मरना पड़ेगा ||


खाकर जिंदगी के धक्के नही संभले तो क्या फायदा होगा

जीने के लिये सबसे पहले यहां निखरना पड़ेगा

वरना पटक देगी ये जालिम जिंदगी नीचे

ना चाहते हुए भी फिर बिखरना पड़ेगा ||


नही मिलती हर बार आसान राहें यहां

कई बार मुश्किल दौर से भी गुजरना पड़ेगा

लाख ठीक हो तुम अपने उसुलो के अ दोस्त

पर यहां तो फिर भी सुधरना पड़ेगा ||


रोकना पड़ेगा मन की इच्छाओं को जबरदस्ती

कई बार मन की लालसा से मुकरना पड़ेगा

हर बार मौसम ठीक नही होता उड़ने की खातिर

क्या करोगे, अपनी ही परों को कुतरना होगा ||


जीना है अगर औरों से ज्यादा यहां

तो गरीबों से मजबूरन इश्क भी करना पड़ेगा

गलती से भी बददुआ मत ले बैठना किसी की यारों

वरना हर पल बाकी जिंदगी उस बात का हर्जाना भुगतना पड़ेगा

 

sukh-dukh, khushee-gam naam kee uphanatee dariya ko phaand kar
jindagee ke us paar utarana padega
hansakar karo chaahe, rok kar karo
ye saphar to paar karana padega ||
nahee chhodana hai hausalaan dekhakar musibaton ko saamane
kuchh der hee sahee par aage to adana padega
varana kha jaegee maut, jindagee ko pal bhar mein
bahut tadaph tadaph kar, na chaahate hue bhee marana padega ||
khaakar jindagee ke dhakke nahee sambhale to kya phaayada hoga
jeene ke liye sabase pahale yahaan nikharana padega
varana patak degee ye jaalim jindagee neeche
na chaahate hue bhee phir bikharana padega ||
nahee milatee har baar aasaan raahen yahaan
kaee baar mushkil daur se bhee gujarana padega
laakh theek ho tum apane usulo ke a dost
par yahaan to phir bhee sudharana padega ||
rokana padega man kee ichchhaon ko jabaradastee
kaee baar man kee laalasa se mukarana padega
har baar mausam theek nahee hota udane kee khaatir
kya karoge, apanee hee paron ko kutarana hoga ||
jeena hai agar auron se jyaada yahaan
to gareebon se majabooran ishk bhee karana padega
galatee se bhee badadua mat le baithana kisee kee yaaron
varana har pal baakee jindagee us baat ka harjaana bhugatana padega

 

 

Hindi Kavita On Love | प्यार पर हिंदी कविता

 

 

 

“सोचता हूँ, के कमी रह गई शायद कुछ या – हिंदी कविता

 

“सोचता हूँ, के कमी रह गई शायद कुछ या
जितना था वो काफी ना था,
नहीं समझ पाया तो समझा दिया होता
या जितना समझ पाया वो काफी ना था,
शिकायत थी तुम्हारी के तुम जताते नहीं
प्यार है तो कभी जमाने को बताते क्यों नहीं,
अरे मुह्हबत की क्या मैं नुमाईश करता
मेरे आँखों में जितना तुम्हें नजर आया,
क्या वो काफी नहीं था I
सोचता हूँ के क्या कमी रह गई,
क्या जितना था वो काफी नहीं था I”

 

“sochata hoon, ke kamee rah gaee shaayad kuchh ya
jitana tha vo kaaphee na tha,
nahin samajh paaya to samajha diya hota
ya jitana samajh paaya vo kaaphee na tha,
shikaayat thee tumhaaree ke tum jataate nahin
pyaar hai to kabhee jamaane ko bataate kyon nahin,
are muhhabat kee kya main numaeesh karata
mere aankhon mein jitana tumhen najar aaya,
kya vo kaaphee nahin tha i
sochata hoon ke kya kamee rah gaee,
kya jitana tha vo kaaphee nahin tha i”

 

 

 सोचता हूँ कभी पन्नों पर उतार लूँ उन्हें – हिंदी कविता

 

 

 सोचता हूँ कभी पन्नों पर उतार लूँ उन्हें I

उनके मुँह से निकले सारे अल्फाजों को याद कर लूँ कभी I

ऐसी क्या मज़बूरी होगी उनकी की हम याद नहीं आते I

सोचता हूँ तोहफा भेज कर अपनी याद दिला दूँ कभी I

सोचता हूँ कभी पन्नों पर उतार लूँ उन्हें I”

 

 

 sochata hoon kabhee pannon par utaar loon unhen i
unake munh se nikale saare alphaajon ko yaad kar loon kabhee i
aisee kya mazabooree hogee unakee kee ham yaad nahin aate i
sochata hoon tohapha bhej kar apanee yaad dila doon kabhee i
sochata hoon kabhee pannon par utaar loon unhen i”

 

 

“दूरियां इतनी बढ़ जाएंगी मालूम ना था – हिंदी कविता

 

 

 “दूरियां इतनी बढ़ जाएंगी मालूम ना था I

वो बाबू से बेवफा बन जाएंगे मालूम ना था I

हम उनके लिए पागल हो जाएंगे मालूम ना था I

जो अपना चेहरा हमारी आँखों में देखते थे I

वो आईना बदल लेंगे मालूम ना था I

ऐसे बरसेगी उसकी यादें सन्नाटे में मालूम ना था I

दूरियां इतनी बढ़ जाएंगी मालूम ना था I”

 

 

 “dooriyaan itanee badh jaengee maaloom na tha i
vo baaboo se bevapha ban jaenge maaloom na tha i
ham unake lie paagal ho jaenge maaloom na tha i
jo apana chehara hamaaree aankhon mein dekhate the i
vo aaeena badal lenge maaloom na tha i
aise barasegee usakee yaaden sannaate mein maaloom na tha i
dooriyaan itanee badh jaengee maaloom na tha i”

 

 

 “चलते चलते कहीं रुका, – हिंदी कविता

 

 

 “चलते चलते कहीं रुका,

तो कुछ जानने वाले मिले

तो लगा कितनी छोटी सी दुनियां है

जब जानने वालों ने पहचाना नहीं

तो लगा की इस छोटी सी दुनियां में हम कितने छोटे है I”

 

 

 

“chalate chalate kaheen ruka,
to kuchh jaanane vaale mile
to laga kitanee chhotee see duniyaan hai
jab jaanane vaalon ne pahachaana nahin
to laga kee is chhotee see duniyaan mein ham kitane chhote hai i”

 

 

 “खुद पर गुरुर था तुम्हें की तुम मुहब्बत के बारे में सब जानते हो, – हिंदी कविता

 

 

 “खुद पर गुरुर था तुम्हें की तुम मुहब्बत के बारे में सब जानते हो,

अच्छा चलो बताओ उसकी आंखों को ठीक से पहचानते हो I

क्या गलतफमी लिए जी रहे थे अब तक की तुम्हें मुहब्बत के हर रास्ते मालूम है,

अच्छा चलो बताओ उसके दिल तक पहुंचने का रास्ता जानते हो I

इश्क़ की सीढ़ी लगा कर जिस्म तक पहुंचने का तरीका सबको मालूम है यहाँ,

अच्छा चलो बताओ उसके रूह से गुफ्तगू करने का तरीका जानते हो II”

 

 

 

About the author

legend.robert

Leave a Comment