General

Two Line Shayari | Sms

Two Line Shayari | Sms
Written by legend.robert

 Two Line Shayari | Sms | Status in Hindi

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी लोग उम्मीद करता हूं आप सभी लोग अच्छे होंगे आज किस आर्टिकल में हम आपके लिए लेकर आए हैं दो लाइन वाली शायरी अब इसमें आपको हर तरीके की शायरी मिलने वाली है लेकिन वह शायरी सिर्फ दो लाइन के अंदर ही होंगे इससे आपको काफी ज्यादा मजा आएगा पढ़ने में तो आपने क्या करना है इस आर्टिकल को लास्ट तक पढ़ना है और यह पहला आर्टिकल होने वाला है इस तरीके का हमारी वेबसाइट पर मुझे उम्मीद है आपको ये आर्टिकल पसंद आएगा ही । और जो दोस्त आपकी इस तरीके के आर्टिकल में इंटरेस्ट रखते हैं तो आपका दिल करे आप कोई आर्टिकल पसंद आए तो आप किस आर्टिकल को उन दोस्तों में भी शेयर कर सकते हैं बाकी आपकी मर्जी

इस तरह गौर से मत देख मेरा हाथ 

इन लकीरों में हसरतों के सिवा कुछ भी नहीं

Is tarah gaur se mat dekh mera haath 

In laqiron mein hasraton ke siwa kuchh bhi nahin

नाकाम थीं मेरी सब कोशिशें उस को मनाने की 

पता नहीं कहाँ से सीखीं जालिम ने अदाएं रूठ जाने की

Nakam thi meri sab koshishen us ko manaane ki 

Pata nahin kahan se seekhi jaalim ne adaayen rooth jaane ki

अकेले तो हम पहले भी जी रहे थे 

क्यूँ तन्हा से हो गए हैं तेरे जाने के बाद

Akele to hum pehle bhi jee rahe the 

Kyun Tanha se ho gaye hain tere jane ke baad

हर अजनबी हमें महरम दिखाई देता है

जो अब भी तेरी गली से गुज़रने लगते हैं”

Har aznabi hame mehram dikhai deta hai

Jo ab bhi Teri Gali se guzarne lagte hai

तुम्हारी दुनिया में हम जैसे हजारों हैं

हम ही पागल थे जो तुम्हे पा के इतराने लगे

Tumhari Duniya me hum jaise hazaron hai 

Hum hi pagal the jo tumhe pa ke itraane lage

हर सदा पर लगे हैं कान यहाँ

दिल सँभाले रहो ज़बाँ की तरह 

Har sada pe lage hai kaan Yaha

Dil samhaale raho zubaa ki terha

अब अपना इख़्तियार है चाहे जहाँ चलें

रहबर से अपनी राह जुदा कर चुके हैं हम 

Ab apna ikhtiyar hai chahe jaha chale

Rehbar se apni Raha Juda Kar chuke hai ham

न जाने किस लिए उम्मीद-वार बैठा हूँ

इक ऐसी राह पे जो तेरी रहगुज़र भी नहीं 

Na jaane kis liye umeed Baar baitha hoon

Is aisi raah pe Jo Teri rehguzar bhi Nahi

नहीं निगाह में मंज़िल तो जुस्तुजू ही सही

नहीं विसाल मयस्सर तो आरज़ू ही सही

Nahi night mei manzil to justju hi Sahi

Nahi bisaal mayyssar to aarzu hi Sahi

कभी कभी तो रो पड़ती हैं यूँ ही आँखें

उदास होने का कोई सबब नहीं होता

Kabhi kabhi to ro padti hain yun hi aankhe

Udaas hone ka koi sabab nahin hota

 

 

 

Two Line Shayari Love

 
ज़माना दूरियों का मतलब नहीं जानता,
हमारे प्यार की वो ताक़त नहीं जानता। 

Zamana duriyon ka matlab nahi jaanta,
Humare pyar ki wo taqat nahi jaanta.

हुए बदनाम मगर फिर भी न सुधर पाए हम,
 फिर वही शायरी, फिर वही इश्क, फिर वही तुम

 

hue badanaam magar phir bhee na sudhar pae ham,
phir vahee shaayaree, phir vahee ishk, phir vahee tum

 इश्क़ में हमने वही किया जो फूल करते हैं बहारों में
खामोशी से खिले महके और फिर बिखर गए

ishq mein hamane vahee kiya jo phool karate hain bahaaron mein
 khaamoshee se khile mahake aur phir bikhar gae

 

खौफ़ ये कि कोई ज़ख्म न देखे दिल का
हसरत ये कि काश कोई देखने वाला होता

 

khauf ye ki koee zakhm na dekhe dil ka
 hasarat ye ki kaash koee dekhane vaala hota

About the author

legend.robert

Leave a Comment